बाराबंकी: पुजारी की धारदार हथियार से हत्या, सुबह मंदिर पहुंचे श्रद्धालुओं को खून में सना मिला शव

 

टिकैतनगर कोतवाली क्षेत्र के खमौली गांव में 70 साल के पुजारी सुरेशचन्द्र चौहान हनुमान मंदिर के पुजारी थे. गांव के लोग उन्हें काफी मानते थे. सुरेशचन्द्र चौहान लंबे समय से मंदिर परिसर में ही रहते थे.

बाराबंकी. उत्तर प्रदेश के बाराबंकी जिले में मंगलवार रात एक मंदिर के पुजारी की धारदार हथियार से काटकर हत्या कर दी गई. यह वारदात टिकैतनगर कोतवाली क्षेत्र की है. 70 वर्षीय मृतक पुजारी का नाम सुरेशचन्द्र चौहान था. मंदिर के पुजारी की हत्या की सूचना पाकर पहुंची पुलिस ने मौका-ए-वारदात की गहनता से पड़ताल की है. घटना के जल्द खुलासे की पुलिस अधीक्षक यमुना प्रसाद ने बात कही है.

बाराबंकी जिले में टिकैतनगर कोतवाली क्षेत्र के खमौली गांव में 70 साल के पुजारी सुरेशचन्द्र चौहान हनुमान मंदिर के पुजारी थे. गांव के लोग उन्हें काफी मानते थे. सुरेशचन्द्र चौहान लंबे समय से मंदिर परिसर में ही रहते थे. बुधवार सुबह लोग पूजा पाठ के लिए मंदिर पहुंचे तो सुरेशचन्द्र चौहान का खून से लतपथ शव मिला. हत्यारों का सुराग तलाशने के लिए मौके पर फॉरेंसिक और डॉग स्क्वाड की टीम बुलाई गई है. इस घटना के बाद से क्षेत्र में भय का माहौल है. ग्रामीण भी नहीं समझ पा रहे हैं कि बुजुर्ग पुजारी की हत्या क्यों की गई?

एसपी ने कही जल्द खुलासे की बात

पुलिस अधीक्षक यमुना प्रसाद ने बताया कि टिकैतनगर कोतवाली क्षेत्र के खमौली गांव में एक 70 वर्षीय पुजारी रहते थे. बुधवार को सुबह उनकी डेड बॉडी मिली है. उनके सिर पर चोट के निशान हैं, जिससे या लगता है कि इसी चोट की वजह से उनकी मौत हुई है. मौके पर पुलिस बल मौजूद है. पंचनामा भर के बॉडी को पोस्टमार्टम के लिए भेजा जा रहा है. घटना के खुलासे के लिए तीन टीमें बनाई गई हैं. जल्द से जल्द घटना का खुलासा किया जाएगा.


Popular posts
जानकीपुरम तृतीय वार्ड (नया वार्ड): जो संघर्ष अपने जीवन के लिए किया है वही वार्ड के विकास के लिए करूंगा- गया प्रसाद रावत
Image
जानकीपुरम तृतीय (नया वार्ड) : सादगी, संघर्ष व जनसेवा की मिसाल हैं प्रतिभा रावत
Image
महानगर वार्ड: क्षेत्र में भेदभाव और विकास की अनदेखी लाई है ऊषा चौधरी को मैदान में !
Image
खरगापुर सरसवां : (नया वार्ड) निस्वार्थ भाव से जनता की सेवा विरासत में मिली है अजय कुमार यादव को
Image
जानकीपुरम तृतीय वार्ड (नया वार्ड): अगर भाग्य ने साथ दिया तो बीडीसी रहने का अनुभव काम आएगा प्रमोद कुमार रावत को
Image