चिता में आग लगने से ठीक पहले 'जिंदा' हो गई कोरोना मरीज, आंख खोलते ही लगी रोने

 

 78 साल की बुजुर्ग शकुंतला गायकवाड़ को कुछ दिनों पहले कोरोना संक्रमण हो गया था. जांच में जैसे ही उन्‍हें संक्रमण की पुष्टि हुई तो उन्‍हें घर पर आइसोलेशन में रखा गया.

पुणे. देश में बड़ी संख्‍या में कोरोना संक्रमण  के नए मामले सामने आने के साथ ही अधिक मौतें भी हो रही हैं. पिछले दिनों तो कई शहरों में श्‍मशान घाटों पर भी बड़ी संख्‍या में शवों को जलाने की तस्‍वीरें भी आई थीं. हालांकि अब हालात पहले से थोड़े सुधरे हैं. इस बीच पुणे में एक अनोखी घटना ने सबका ध्‍यान खींचा है. वहां एक बुजुर्ग महिला अपनी चिता जलने से पहले 'जिंदा' हो गई हैं.

दरअसल यह मामला महाराष्‍ट्र के पुणे का है. वहां के मुढाले गांव की रहने वाली 78 साल की बुजुर्ग शकुंतला गायकवाड़ को कुछ दिनों पहले कोरोना संक्रमण  हो गया था. जांच में जैसे ही उन्‍हें संक्रमण की पुष्टि हुई तो उन्‍हें घर पर आइसोलेशन में रखा गया. इसके बाद उम्र अधिक होने के कारण उनमें कुछ गंभीर लक्षण भी दिखने लगे थे.

10 मई को उनके परिवारवाले उन्‍हें एंबुलेंस से लेकर अस्‍पताल के लिए जा रहे थे. उनके परिवारवाले अस्‍पताल पहुंचे तो वे वहां बेड की व्‍यवस्‍था कर रहे थे. इस दौरान शकुंतला बाहर एंबुलेंस में थीं. इस बीच वह बेहोश जैसी हो गईं.

बताया गया कि इसके बाद एंबुलेंस के स्‍टाफ ने महिला को देखकर उन्‍हें मृत घोषित बता दिया था. इस पर परिवारवालों ने अपने रिश्‍तेदारों को इसकी सूचना दी. महिला के 'शव' को इसके बाद गांव ले जाया गया. वहां उनके अंतिम संस्‍कार की तैयारी शुरू की गई.


Popular posts
जानकीपुरम तृतीय वार्ड (नया वार्ड): जो संघर्ष अपने जीवन के लिए किया है वही वार्ड के विकास के लिए करूंगा- गया प्रसाद रावत
Image
खरगापुर सरसवां : (नया वार्ड) निस्वार्थ भाव से जनता की सेवा विरासत में मिली है अजय कुमार यादव को
Image
खरगापुर सरसवां : जैसे मलेशेमऊ का विकास किया वैसे ही पूरे वार्ड का विकास करूंगा - मो० फारूख प्रधान
Image
जानकीपुरम तृतीय (नया वार्ड) : सादगी, संघर्ष व जनसेवा की मिसाल हैं प्रतिभा रावत
Image
खरगापुर सरसवां - मौका मिला तो प्रदेश में केले की सफल खेती की तरह ही वार्ड को सफल बनाऊंगा - राजकेशर सिंह
Image