मलिहाबाद, काकोरी: कुछ प्रधानों ने हैट्रिक की, तो कुछ 'आराम' के बाद फिर लौटे - (भाग-1)


लखनऊ,

मलिहाबाद: सामने परोसी रखी थाली को छोड़कर लोगों के काम से दौड़ पड़ना, नींद तोड़कर लोगों की पुकार पर चल पड़ना आदि जनसेवा के कार्य। पंचायत भवन, आंगनबाड़ी व लगातार विकास की नई गाथाएं लिखना यह है माधौपुर पंचायत के निवर्तमान प्रधान सरोज कुमार का बायोडाटा। इसी के दम पर सरोज कुमार लगातार दो बार प्रधान रहे और इस बार उनकी पत्नी सरोज कुमारी को सेवा और विकास की वहीं परंपरा आगे बढ़ाने का पंचायत वासियों ने मौका दिया है। मतलब एक ही परिवार में प्रधानी की हैट्रिक।

ऐसी ही हैट्रिक में जौरिया के वीरेंद्र यादव, घुसौली के अयोध्या प्रसाद का नाम है।
कुछ प्रधान 'आराम के बाद' यानी एक या दो कार्यकाल बाद जीत कर आए हैं जैसे ईशापुर के वासुदेव सिंह, सैंधरवा पुष्पा देवी के पति रामकुमार मौर्य , कनार के अमर सिंह आदि 

घुसौली के अयोध्या प्रसाद के परिवार में भी लगातार प्रधानी की हैट्रिक है, अयोध्या प्रसाद में अपनी जनता के प्रति सेवाभाव कूट कूट कर भरा है, लगभग सभी विकास कार्य जनता तक पहुंचाए गए हैं, उनके लगातार कार्यकाल में बिजली पानी सड़क जलनिकासी आदि और लगभग सभी सरकारी भवनों के कार्य हुए हैं। अयोध्या प्रसाद ने कहा कि आंगनबाड़ी भवन आदि कुछ काम प्राथमिकता में हैं, जनता की उम्मीदों पर हमेशा की तरह खरा उतरूंगा।

तमाम नये प्रधान भी हैं जो समाज सेवा से जुड़े रहे और विकास की नई कहानी लिखना चाहते हैं।

मलहा के नवनिर्वाचित प्रधान दिनेश कुमार यादव ने वर्षों से एक समाजसेवी के रूप में क्षेत्र में बहुत सहायता और विकास करवाया है, अब सभी प्रमुख कार्य उनकी प्राथमिकता में हैं।
मीठे नगर के नवनिर्वाचित प्रधान रवीन्द्र प्रताप यादव 'रवि यादव' ग्रेजुएट हैं और प्रगतिशील समाजवादी पार्टी छात्रसभा के जिलाध्यक्ष हैं, उनके पिता बाबूलाल यादव पूर्व प्रधान रहे हैं। रवि यादव की प्राथमिकता पंचायत में रोजगार सेवक बहाल करवा कर नरेगा कार्यों को गति देना है, पानी की टंकी लगवाना है व गांव के रास्ते नालियां आदि ठीक करवाना है। इसके अलावा भी वह लोगों के रोजगार के लिए कुछ करना चाहते हैं। बाबूलाल यादव के अनुसार पिछले दस सालों में उनके अपने गांव दुगौली में कोई विकास नहीं हुआ, खडंजा तक नहीं लगा और न ही लोगों को पेंशन आदि दिलवाई गई। रवि यादव कहते हैं कि अब वे सब समस्याओं के समाधान हेतु प्रयास करेंगे।

अल्लूपुर के दिनेश विश्वकर्मा के अच्छे कार्यों की बदौलत जनता ने फिर उनके परिवार को मौका दिया है, इस बार उनकी पत्नी प्रधान चुनी गई हैं।

भदवाना के नवनिर्वाचित युवा प्रधान कलेश्वर प्रसाद 'मुनीम' को बड़ी उम्मीदों के साथ पंचायत वासियों ने प्रधान चुना है। लोगों का कहना है कि अब तक बहुत भेदभाव पूर्ण कार्य होते रहे हैं, कलेश्वर से उन्हें काफी आशाएं हैं, कलेश्वर प्रसाद'मुनीम' ने कहा कि बिना किसी भेदभाव के सभी को सरकारी लाभ मिलेगा। आवास, शौचालय, रास्ते, गलियां नालियां आदि उनकी प्राथमिकता है।

कनाकी नवनिर्वाचित प्रधान कमला देवी के ससुर- सास पूर्व में प्रधान रहे हैं, वे उनकी आदर्श विरासत को आगे बढ़ाने के लिए दृढ़प्रतिज्ञ हैं। उनके ससुर स्वर्गीय शरणदास 'प्रधान जी' व पति अमर सिंह की पंचायत में विशेष छवि है। पहले अपनी प्रधान मां व अब पत्नी के सहयोगी अमर सिंह ने कहा कि कोरोना मुक्त पंचायत, जलनिकास, मार्ग प्रकाश व्यवस्था उनकी प्राथमिकता है इसके साथ पानी की टंकी लगवाना व लोगों तक शिक्षा स्वास्थ्य सहित सभी विकास पहुंचाना उनकी प्राथमिकता है।

नई बस्ती धनेवा पंचायत के नवनिर्वाचित प्रधान विजय कुमार मौर्य को बड़ी आशाओं से लोगों ने प्रधान चुना है और विजय कुमार उन आशाओं को पूरा करने तुरंत लग गए हैं। सफाई, कूड़े के ढेर, पुष्टाहार वितरण में गड़बड़ी आदि पंचायत की प्रमुख समस्याएं हैं जिन्हें दूर करवाना उनकी प्राथमिकता है। इसके अलावा पंचायत के कुछ इलाकों में रास्तों नालियां और जलभराव की समस्या है जिसे वे दूर करवाएंगे, नालियां कवर करवाएंगे, इंटरलाकिंग आरसीसी रोड आदि पर मंथन शुरू भी कर दिया है।
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------

काकोरी: 
थावर की नवनिर्वाचित प्रधान माधुरी सिंह पूर्व प्रधान अतुल कुमार सिंह की धर्मपत्नी हैं, उच्च शिक्षित हैं अंग्रेजी व अर्थशास्त्र में एम ए हैं, पूर्व शिक्षिका हैं। अतुल कुमार सिंह विकास प्रिय और न्याय प्रिय प्रधान व व्यक्ति के रूप में प्रसिद्ध हैं, उनकी प्रधानी कार्यकाल में ही थावर को आदर्श ग्राम की पहचान मिली थी। माधुरी सिंह अपने पति के पदचिन्हों पर चलते हुए थावर को विकास की ऊंचाइयों पर ले जाएंगी।

जगतापुर की नवनिर्वाचित प्रधान सावित्री देवी को जनता ने इस बार मौका दिया है। वे और उनका परिवार हमेशा से ही जनसेवा में लगे रहे हैं। परिवार में पति सहित कई लोग प्रशासनिक सेवा में रहे हैं, उनके पुत्र सरोज यादव उर्फ राकेश यादव पंचायत में बहुत लोकप्रिय व्यक्ति हैं, पंचायत में अपनी मां के सहयोगी रहेंगे। राकेश यादव ने कहा कि सभी अधूरे पड़े काम पहले पूरे कराना ही हमारी प्राथमिकता है। इसके अलावा अधूरा सामुदायिक शौचालय, आंगनबाड़ी भवन, पीएम आवास आदि कार्य उनकी प्राथमिकता में हैं।

काकराबाद की प्रधान गरिमा सिंह और उनके पति विश्वजीत सिंह उच्च शिक्षित और सामाजिक व्यक्ति हैं, पोस्ट ग्रेजुएट हैं गरिमा सिंह बी एड भी हैं । चुनाव से पहले भी वे अपने निजी पैसों से कई सुधार कार्य करवा चुके हैं। उनकी प्राथमिकता में बिजली सप्लाई और गुणवत्ता को सुधरवाना है, इसके अलावा सफाई व्यवस्था वह हर जनहितकारी योजनाओं से लोगों को लाभ दिलवाना है।

सिरगामऊ की प्रधान सुनीता व उनके पति संतोष बेहद सरल व ईमानदार स्वभाव के हैं, उन्होंने तो अपने पोस्टर आदि भी नहीं छपवाने, लोगों को पता चला और उन्हें जिता दिया। उनके पुत्र रामकिशोर का कहना है कि जनता और विकास से जुड़ा हर कार्य हमारी प्राथमिकता में है।


-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
(यह रिपोर्ट आपको कैसी लगी कृपया प्रतिक्रिया भी दें!)



Popular posts
खरगापुर सरसवां : जैसे मलेशेमऊ का विकास किया वैसे ही पूरे वार्ड का विकास करूंगा - मो० फारूख प्रधान
Image
खरगापुर सरसवां : (नया वार्ड) निस्वार्थ भाव से जनता की सेवा विरासत में मिली है अजय कुमार यादव को
Image
खरगापुर सरसवां - मौका मिला तो प्रदेश में केले की सफल खेती की तरह ही वार्ड को सफल बनाऊंगा - राजकेशर सिंह
Image
एक चौथाई कार्यकाल के बाद प्रसिद्ध देवा ब्लाक में विकास की स्थिति कुछ- कुछ ठीक रही है!
Image
शहीद भगत सिंह वार्ड द्वितीय (नया वार्ड) : युवा जोश युवा सोच से ओत- प्रोत वीरेंद्र राजपूत
Image