कफील खान की आड़ में आजम के भ्रष्टाचार पर पर्दा डालने में जुटे अखिलेश

अखिलेश के ट्वीट करते ही भाजपा नेताओं की त्योरियां चढ़ गईं। ऐसा स्वाभाविक भी था, क्योंकि अखिलेश भी अच्छी तरह से जानते हैं कि आजम और डॉ. कफील की गिरफ्तारी की वजह बिल्कुल अलग थी। कफील भड़काऊ बयानबाजी के आरोप में जेल गए थे।




कोई दो अपराध एक जैसे नहीं होते हैं। यह बात कई मौकों पर न्यायपालिका भी दोहरा चुकी है, लेकिन हमारे सियासतदार ऐसा नहीं मानते हैं वह हर जगह राजनीतिक फायदे की राह तलाश ही लेते हैं। इसीलिए तो जब इलाहाबाद हाईकोर्ट ने यूपी सरकार द्वारा गोरखपुर मेडिकल कालेज के डॉक्टर कफील खान पर लगाए गए राष्ट्रीय सुरक्षा कानून को अवैध करार दिया तो समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव को डॉ. कफील के बहाने योगी सरकार पर हमला बोलते हुए तुष्टिकरण की सियासत चमकाने का मौका मिल गया। अखिलेश यादव ने डॉ. कफील के पक्ष में हाईकोर्ट के फैसले पर तुरंत प्रतिक्रिया देते हुए न केवल राष्ट्रीय सुरक्षा कानून (रासुका) के तहत मथुरा जेल में बंद डॉ. कफील खान की रिहाई पर खुशी जाहिर की बल्कि यह कहने से भी नहीं चूके कि डॉ. कफील की तरह झूठे मुकदमों में फंसाए गए हमारे नेता व सांसद आजम खां को भी जल्द इंसाफ मिलेगा। अखिलेश यादव ने यह बात ट्वीट कर कही। अखिलेश का कहना था, 'सत्ताधारियों का अन्याय और अत्याचार हमेशा नहीं चलता है।


अखिलेश के ट्वीट करते ही भाजपा नेताओं की त्योरियां चढ़ गईं। ऐसा स्वाभाविक भी था, क्योंकि अखिलेश भी अच्छी तरह से जानते हैं कि आजम और डॉ. कफील की गिरफ्तारी की वजह बिल्कुल अलग थी। कफील भड़काऊ बयानबाजी के आरोप में जेल गए थे, जबकि आजम खान पर भ्रष्टाचार के गंभीर आरोप लगे हैं। उत्तर प्रदेश के रामपुर से समाजवादी पार्टी के सांसद आजम खान के नाम एक ऐसा रिकॉर्ड दर्ज है जिसे वो याद रखना भी मुनासिब नहीं समझेंगे। आजम खान पर पुलिस ने अब तक 78 मुकदमे दर्ज किए हैं। इसके साथ ही आजम देश के पहले सांसद बन गए हैं जिनके खिलाफ इतनी संख्या में मुकदमे दर्ज हैं। इनमें से अधिकांश मुकदमे भले ही उनके हाल ही में सांसद बनने के बाद दर्ज हुए हैं, लेकिन आजम पर जितने भी मुकदमे दर्ज हुए हैं, वह उनके अखिलेश सरकार में मंत्री रहते किए गए भ्रष्टाचार से जुड़े हैं।


आजम पर उनके गृह जनपद रामपुर में मौलाना जौहर अली यूनिवर्सिटी के लिए आलियागंज के किसानों की जमीन कब्जा करने के आरोपों में 28 मुकदमे दर्ज हैं। इसी प्रकार यतीमखाना में भैंस चोरी प्रकरण में आजम पर 9 तो शत्रु संपत्ति के मामले में दो मुकदमे दर्ज हैं। वहीं किताबों की चोरी, शेर की मूर्ति चुराने, 2700 खैर के पेड़ों की चोरी का भी मुकदमा दर्ज है। इसके अलावा बेटे अब्दुल्ला आजम के दो-दो जन्म प्रमाणपत्र के आरोपों में दो मुकदमे दर्ज हैं।


आजम के खिलाफ 28 मुकदमे जौहर यूनिवर्सिटी के लिए जमीन कब्जाने के आरोप में अजीम नगर थाने में दर्ज हुए हैं जबकि 11 मुकदमे गंज थाने में लोगों के घर तोड़ने और लूटपाट करने के आरोप में दर्ज कराए गए हैं। आजम खान पर शत्रु संपत्ति को वफ्फ संपत्ति में दर्ज करने और वक्फ संपत्ति को हड़पने का आरोप लगा है। इस मामले में आजम खान, उनकी पत्नी तजीम फातिमा और बेटे अब्दुल्ला आजम के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है।


 



Popular posts
खरगापुर सरसवां : जैसे मलेशेमऊ का विकास किया वैसे ही पूरे वार्ड का विकास करूंगा - मो० फारूख प्रधान
Image
खरगापुर सरसवां : (नया वार्ड) निस्वार्थ भाव से जनता की सेवा विरासत में मिली है अजय कुमार यादव को
Image
खरगापुर सरसवां - मौका मिला तो प्रदेश में केले की सफल खेती की तरह ही वार्ड को सफल बनाऊंगा - राजकेशर सिंह
Image
एक चौथाई कार्यकाल के बाद प्रसिद्ध देवा ब्लाक में विकास की स्थिति कुछ- कुछ ठीक रही है!
Image
शहीद भगत सिंह वार्ड द्वितीय (नया वार्ड) : युवा जोश युवा सोच से ओत- प्रोत वीरेंद्र राजपूत
Image