देश के नाम PM मोदी की चिट्ठी, कहा- हमें अपने पैरों पर खड़ा होना ही होगा, पढ़ें पत्र की खास बातें

पीएम मोदी ने अपने पत्र में लिखा एक साल में, कुछ फैसलों पर व्यापक रूप से चर्चा हुई और सार्वजनिक चर्चा में बने रहे। धारा 370 ने राष्ट्रीय एकता और एकीकरण की भावना को आगे बढ़ाया। सुप्रीम कोर्ट द्वारा सर्वसम्मति से दिया गया राम मंदिर का फैसला, सदियों से चली आ रही बहस का एक सौहार्दपूर्ण अंत लेकर आया।



2019 में 30 मई यानि आज के दिन की तारीख बेहद अहम थी। आज ही के दिन राष्ट्रपति भवन की लाल कालीन से फिर से उस आवाज को देश की आवाम ने सुना था ''मैं नरेंद्र दामोदर दास मोदी... '' ऐतिहासिक क्षण की वो तारीख के पूरे एक बरस गुजर गए। इस खास अवसर पर पीएम मोदी ने देश की जनता के नाम एक पत्र लिखा है जिसमें उन्होंने कहा कि यदि सामान्य स्थिति होती तो मुझे आपके बीच आकर आपके दर्शन का सौभाग्य मिलता।


पत्र की खास बातें


पिछले साल इस दिन, कई दशकों के बाद, देश के लोगों ने पूर्ण बहुमत के साथ पूर्ण सरकार का समर्थन किया। एक बार फिर, मैं भारत के 130 करोड़ लोगों और हमारे राष्ट्र के लोकतांत्रिक लोकाचार को नमन करता हूं आपके स्नेह, सद्भावना और सक्रिय सहयोग ने नई ऊर्जा, और प्रेरणा दी है। सामान्य समय होता तो मैं आपके बीच में होता। हालांकि, वर्तमान परिस्थितियों में इसकी अनुमति नहीं है।  इसलिए मैं इस पत्र के माध्यम से आपका आशीर्वाद चाहता हूं। 


2014 में, लोगों ने एक व्यापक परिवर्तन के लिए मतदान किया। पिछले पांच वर्षों में, राष्ट्र ने देखा कि कैसे प्रशासनिक तंत्र ने खुद को यथास्थिति से मुक्त किया और भ्रष्टाचार के दलदल से और साथ ही साथ दुर्व्यवहार से भी मुक्त हुआ। 'अंत्योदय' की भावना के अनुरूप, लाखों लोगों का जीवन बदल गया है। 


2014 से 2019 तक, भारत का कद काफी बढ़ गया। गरीबों की गरिमा को बढ़ाया गया। राष्ट्र ने वित्तीय समावेशन, मुफ्त गैस और बिजली कनेक्शन, कुल स्वच्छता कवरेज प्राप्त किया, और 'सभी के लिए आवास' सुनिश्चित करने की दिशा में प्रगति की।


भारत ने सर्जिकल स्ट्राइक और एयर स्ट्राइक के माध्यम से अपनी सूक्ष्मता का प्रदर्शन किया। इसी समय, किसानों के लिए वन रैंक वन पेंशन, वन नेशन वन टैक्स और बेहतर न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) जैसी पुरानी मांगें पूरी हुईं।


2019 में, भारतीयों ने न केवल निरंतरता के लिए बल्कि भारत को एक वैश्विक नेता बनाने के लिए भारत को नई ऊंचाइयों पर ले जाने के सपने के साथ मतदान किया। आज, 130 करोड़ लोग राष्ट्र के विकास प्रक्षेप पथ में शामिल और एकीकृत महसूस करते हैं। जन शक्ति और राष्ट्र शक्ति के प्रकाश ने पूरे राष्ट्र को प्रज्ज्वलित किया है।  सबका साथ, सबका साथ, सबका विकास ’के मंत्र द्वारा संचालित, भारत सभी क्षेत्रों में आगे बढ़ रहा है


पिछले एक साल में, कुछ फैसलों पर व्यापक रूप से चर्चा हुई और सार्वजनिक चर्चा में बने रहे। धारा 370 ने राष्ट्रीय एकता और एकीकरण की भावना को आगे बढ़ाया। सुप्रीम कोर्ट द्वारा सर्वसम्मति से दिया गया राम मंदिर का फैसला, सदियों से चली आ रही बहस का एक सौहार्दपूर्ण अंत लेकर आया। ट्रिपल तालक की बर्बर प्रथा को इतिहास के कूड़ेदान तक सीमित कर दिया गया है।


महामारी के कारण, हम निश्चित रूप से एक संकट का सामना कर रहे हैं। लेकिन हमारे लिए, यह भी एक दृढ़ संकल्प का समय है। 130 करोड़ भारतीय अपने सामर्थ्य से आर्थिक क्षेत्र में भी विश्व को चकित ही नहीं बल्कि प्रेरित भी कर सकते हैं। हम अपना वर्तमान और अपना भविष्य तय करेंगे। हम प्रगति के पथ पर आगे बढ़ेंगे और जीत हमारी होगी। 


 


Popular posts
खरगापुर सरसवां : जैसे मलेशेमऊ का विकास किया वैसे ही पूरे वार्ड का विकास करूंगा - मो० फारूख प्रधान
Image
खरगापुर सरसवां : (नया वार्ड) निस्वार्थ भाव से जनता की सेवा विरासत में मिली है अजय कुमार यादव को
Image
खरगापुर सरसवां - मौका मिला तो प्रदेश में केले की सफल खेती की तरह ही वार्ड को सफल बनाऊंगा - राजकेशर सिंह
Image
एक चौथाई कार्यकाल के बाद प्रसिद्ध देवा ब्लाक में विकास की स्थिति कुछ- कुछ ठीक रही है!
Image
शहीद भगत सिंह वार्ड द्वितीय (नया वार्ड) : युवा जोश युवा सोच से ओत- प्रोत वीरेंद्र राजपूत
Image