दिल्ली हिंसा में शादीशुदा जोड़े की मौत, दंगाई ने नाम पूछा और सीने में दागी गोली


नई दिल्ली। उत्तर-पूर्वी दिल्ली के कई इलाकों में भड़की हिंसा के दौरान गोली बहुत घातक साबित हुई है। दिल्ली हिंसा में मरने वालों का आंकड़ा बढ़ गया और अबतक ये संख्या 35 तक हो गई है। हालांकि अभी तक ये तय नहीं हो पाया है कि 35 बेकुसूर लोगों की मौत का असली जिम्‍मेदार कौन है। जिन घरों के चिराग इस हिंसा के दौरान बुझ गए उनके घरों में सन्नाटा पसरा हुआ है। ऐसा ही कुछ नजारा मुस्‍तफाबाद हिंसा में मारे गए अशफाक के घर का है। अभी 11 दिनों पहले जहां खुशियां और हर्षोल्लास का माहौल था वहां अब बेटे के मौत के मातम का माहौल है। वहीं मौत की खबर सुनते ही अशफाक की पत्नी बेहोश हो गईं। उनके पिता बस एक ही बात कह रहे हैं कि शादी के 11 दिन भी पूरे नहीं हुए थे और दंगाइयों ने मेरे बेटे की जान ले ली। मां को मंगलवार देर रात बेटे की मौत की जानकारी मिली।


तभी से मां बेसुध हैं। होश आता भी है तो केवल अशफाक का ही नाम लेती हैं। अस्पताल के मॉर्चरी के बाहर खड़े अशफाक के बड़े भाई मुदस्सिर आंखों में आंसू लिए अपने रिश्तेदारों से गम साझा कर रहे थे। मुदस्सिर ने बताया कि इसी महीने 14 फरवरी को अशफाक की शादी हुई थी। घर में सब काफी खुश थे। अचानक गमों का पहाड़ टूट पड़ा। पत्नी और बुजुर्ग पैरंट्स की आंखों से आंसू नहीं थम रहे हैं। मुदस्सिर ने बताया कि अशफाक (22) मंगलवार शाम को दोस्तों के साथ अपने ऑफिस से घर लौट रहे थे। बृजपुरी पुलिया पर पहुंचते ही हथियार लिए दंगाइयों ने अशफाक और उनके दोस्तों को पकड़ लिया। पहले उन लोगों से नाम पूछा। इस दौरान अशफाक के दोस्त भागने में कामयाब रहे, लेकिन वह हमलावरों के चंगुल में फंस गए। नाम बताते ही अशफाक के सीने पर ताबड़तोड़ 5 गोलियां चला दी गईं। फिर सीने पर धारदार हथियार से कई वार किए। उनके दोस्त कुछ दूर ही थे लेकिन चाहकर भी वो अशफाक की जान नहीं बचा सके। हमलावरों के जाने के बाद दोस्तों ने अशफाक को जीटीबी अस्पताल ले जाना चाहा लेकिन रास्ता न मिलने से पास के ही एक अस्पताल में ले गए। वहां अशफाक की जान चली गई। परिवार का कहना है कि सीसीटीवी से दंगाइयों की पहचान कर सख्त एक्शन लेना चाहिए।


Popular posts
जानकीपुरम तृतीय वार्ड (नया वार्ड): जो संघर्ष अपने जीवन के लिए किया है वही वार्ड के विकास के लिए करूंगा- गया प्रसाद रावत
Image
खरगापुर सरसवां : (नया वार्ड) निस्वार्थ भाव से जनता की सेवा विरासत में मिली है अजय कुमार यादव को
Image
खरगापुर सरसवां : जैसे मलेशेमऊ का विकास किया वैसे ही पूरे वार्ड का विकास करूंगा - मो० फारूख प्रधान
Image
जानकीपुरम तृतीय (नया वार्ड) : सादगी, संघर्ष व जनसेवा की मिसाल हैं प्रतिभा रावत
Image
खरगापुर सरसवां - मौका मिला तो प्रदेश में केले की सफल खेती की तरह ही वार्ड को सफल बनाऊंगा - राजकेशर सिंह
Image