दुनिया का एक ऐसा विचित्र गावं जहां लोग बात करते- करते ही सो जाते है


आप जानते ही होगे की आजकल की लाइफस्‍टाइल हमारे जीवम मे नींद की अहम भूमिका रहती है। इस लाइफस्‍टाइल ने लोगों की नींद ही छीन ली है। हम आपको बताने जा रहे है जहा लोग सड़क पर चलते-चलते वे नींद के आगोश में चले जाते हैं। अब आप सोच रहे होंगे कि आखिर ये कैसे संभव है। अचानक बात करते- करते या फिर चलते-चलते किसी को नींद कैसी आ सकती है तो आपको बता दें कि ये बिल्कुल ठीक बात है। ये मामला कजाकिस्तान का है। यहां के कलाची गांव में लोग कभी भी सो जाते हैं।

 

लोगों की नींद का आलम ये है कि वे रहस्मयी तरीके सो जाते हैं और फिर कभी-कभी महीनों तक नहीं उठते। वहीं जब ये लोग सोकर उठते हैं तो फिर उन्हें कुछ याद नहीं रहता है। ये लोग सोकर जागने के बाद कुछ अजीबो-गरीब बातें करने लगते हैं। वहीं कलाची गांव का ये मामला पहली बार साल 2010 में सामने आया था। कुछ बच्चे अचानक स्कूल में गिर गए थे और सोने लगे थे। इसके बाद इस बीमारी के शिकार लोगों की संख्या बढ़ने लगी। तभी से वैज्ञानिक इस गांव पर रिसर्च कर रहे हैं।

 

हालांकि अभी तक वैज्ञानिक या डॉक्टर किसी सटीक नतीजे पर नहीं पहुंच पाए हैं। वहीं स्थानीय लोगों का कहना है कि इस स्लीपिंग डिसऑर्डर की एक वजह यूरेनियम माइंस हैं।यूरेनियम से निकली गैस हमारे शरीर पर काफी असर डालती है। इस गैस से लोग बेहोश तक हो सकते हैं। इस बीमारी की वजह से लागतार लोग इस गांव से पलायन कर रहे हैं। पिछले कुछ समय से यहां काफी लोग दूसरी जगह शिफ्ट हो गए हैं। 

Popular posts
जानकीपुरम तृतीय वार्ड (नया वार्ड): जो संघर्ष अपने जीवन के लिए किया है वही वार्ड के विकास के लिए करूंगा- गया प्रसाद रावत
Image
खरगापुर सरसवां : (नया वार्ड) निस्वार्थ भाव से जनता की सेवा विरासत में मिली है अजय कुमार यादव को
Image
खरगापुर सरसवां : जैसे मलेशेमऊ का विकास किया वैसे ही पूरे वार्ड का विकास करूंगा - मो० फारूख प्रधान
Image
जानकीपुरम तृतीय (नया वार्ड) : सादगी, संघर्ष व जनसेवा की मिसाल हैं प्रतिभा रावत
Image
खरगापुर सरसवां - मौका मिला तो प्रदेश में केले की सफल खेती की तरह ही वार्ड को सफल बनाऊंगा - राजकेशर सिंह
Image