क्या अब एसी शुरू करने के बाद तापमान 24 डिग्री से कम नहीं कर सकते

सरकार ने तय किया है कि अब से एयर कंडीशनर की डिफॉल्ट सेटिंग 24 डिग्री पर हो जाएगी. जब आप एसी खोलेंगे तो वो इसी तापमान पर चालू होगा. आखिर सरकार क्यों ये कदम उठाने जा रही है



सरकार ने एक फैसला किया है. ऊर्जा मंत्रालय ने एयर कंडीशनर में डिफॉल्ट तापमान 24 डिग्री पर तय कर दिया है. इससे तमाम सवाल ये उठ रहे हैं कि क्या इसका मतलब ये है कि हम अपने एसी को 24 डिग्री से नीचे नहीं ले जा सकते हैं.
अब आप जब भी बाजार में नया एसी खरीदने जाएंगे तो आप जो भी नया एयर कंडीशनर खरीदेंगे, उसमें आपको उसका डिफाल्ट टैम्परेचर 24 डिग्री पर ही सेट मिलेगा.


भारत सरकार ने बदला एयर कंडीशनर के लिए तापमान सेटिंग का नियम


गर्मियों में जब आप नया एसी खरीदने जाएंगे तो आपको 24 डिग्री पर चलने वाले एसी ही मिलेंगे. ऊर्जा मंत्रालय ने एयर कंडीशनर में डिफॉल्ट तापमान 24 डिग्री तय कर दिया है. एसी शुरू होने के बाद तापमान को कम ज्यादा किया जा सकेगा.
सरकार का दावा है कि तापमान की डिफॉल्ट सेंटिंग 24 डिग्री पर एसी चलने से सालाना 4000 रुपये की बिजली की बचत संभव है. तो क्या इसका मतलब ये है कि अभी तक आप अपने एसी का तापमान जबरदस्त गर्मी में 16 तक ले जाते थे, वो क्या नहीं कर सकेंगे. ऐसे सवाल बहुत सारे लोगों के जेहन में उठ रहे होंगे लेकिन ऐसा नहीं है बल्कि ये मुमकिन है कि आप एसी शुरू करने के बाद मनमाफिक तरीके से इसके तापमान को ऊपर या नीचे ले जा सकेंगे.


डिफॉल्ट सेटिंग 24 डिग्री हो जाएगी अब 
ऊर्जा मंत्रालय के नोटिफिकेशन के मुताबिक नए साल में नई सेटिंग के साथ ही रूम एयर कंडीशनर बनेंगे. सभी ब्रांडों के स्टार रेटिंग वाले एसी के लिए सरकार ने नोटिफिकेशन जारी किए हैं. नए नियम 1 जनवरी 2020 से लागू हो चुके हैं. इस नियम के तहत सभी रूम एयर कंडीशनरों में 24 डिग्री सेल्सियस की डिफॉल्ट तापमान सेंटिंग होगी.


कैसे तय होगी एसी की स्टार रेटिंग 
बिजली बचत के नियम तय करने वाली एजेंसी ऊर्जा दक्षता ब्यूरो (बीईई) के साथ विचार करने के बाद सरकार ने रूम एसी के लिए नए उर्जा कार्य मानक तय किये हैं. नए मानकों के मुताबिक, "स्‍टार लेबल वाले सभी ब्रांड और सभी प्रकार के रूम एयर कंडीशनरों यानी मल्टी स्टेज कैपेसिटी एयर कंडीशनर और स्प्लिट एयर कंडीशनरों को 10,465 वॉट (9,000 किलो कैलोरी/घंटा) की कूलिंग क्षमता तक की आपेक्षिक ऊर्जा, दक्षताओं के आधार पर एक से पांच स्टार तक रेटिंग दी गई है. जिन मशीनों का भारत में निर्माण किया गया है या व्यावसायिक रूप से खरीदा या बेचा गया है.


क्या इससे कोई फायदा होगा


बीईई के मुताबिक एसी के 24 डिग्री सेल्सियस तापमान डिफॉल्ट सेटिंग होने से 24 फीसदी तक की ऊर्जा की बचत हो सकती है. जापान और अमेरिका जैसे देश पहले ही एसी के तापमान को लेकर नियम तय कर चुके हैं. जापान ने एसी में डिफॉल्ट तापमान को 28 डिग्री सेल्सियस पर तय किया है. अमेरिका के कुछ इलाकों में एसी के तापमान को 26 डिग्री से कम नहीं करने का नियम है.


 


Popular posts
जानकीपुरम तृतीय वार्ड (नया वार्ड): जो संघर्ष अपने जीवन के लिए किया है वही वार्ड के विकास के लिए करूंगा- गया प्रसाद रावत
Image
खरगापुर सरसवां : (नया वार्ड) निस्वार्थ भाव से जनता की सेवा विरासत में मिली है अजय कुमार यादव को
Image
खरगापुर सरसवां : जैसे मलेशेमऊ का विकास किया वैसे ही पूरे वार्ड का विकास करूंगा - मो० फारूख प्रधान
Image
जानकीपुरम तृतीय (नया वार्ड) : सादगी, संघर्ष व जनसेवा की मिसाल हैं प्रतिभा रावत
Image
खरगापुर सरसवां - मौका मिला तो प्रदेश में केले की सफल खेती की तरह ही वार्ड को सफल बनाऊंगा - राजकेशर सिंह
Image