इस राजा के बेटे की 60 पत्नियां, सभी करती हैं ये काम...


म्यांमार। दरअसल, हम जिस शख्स के बारे में बात कर रहे हैं, वह कोई आम आदमी नहीं, बल्कि कोन्याक जनजाति का राजा है। यह स्थान भारत और म्यांमार की सीमा पर पड़ता है। इस राजा के लगभग 75 गाँव हैं, जिनमें से आधे भारत में हैं और आधे गाँव हैं जिसके कारण इस गाँव में रहने वाले लोगों को भारत और म्यांमार दोनों की नागरिकता मिली हुई है। इस राजा के बेटे म्यांमार की सेना में जुड़े हुए हैं और इन 75 गाँवों में इन राजाओं का शासन है और इन 75 गाँवों से उन्हें 60 पत्नियाँ मिली हैं, जिनकी वे बहुत अच्छी देखभाल करते हैं और उनकी खुशी का भी ख्याल रखते हैं।


Popular posts
जानकीपुरम तृतीय वार्ड (नया वार्ड): जो संघर्ष अपने जीवन के लिए किया है वही वार्ड के विकास के लिए करूंगा- गया प्रसाद रावत
Image
खरगापुर सरसवां : (नया वार्ड) निस्वार्थ भाव से जनता की सेवा विरासत में मिली है अजय कुमार यादव को
Image
खरगापुर सरसवां : जैसे मलेशेमऊ का विकास किया वैसे ही पूरे वार्ड का विकास करूंगा - मो० फारूख प्रधान
Image
जानकीपुरम तृतीय (नया वार्ड) : सादगी, संघर्ष व जनसेवा की मिसाल हैं प्रतिभा रावत
Image
खरगापुर सरसवां - मौका मिला तो प्रदेश में केले की सफल खेती की तरह ही वार्ड को सफल बनाऊंगा - राजकेशर सिंह
Image