फोटोग्राफर से नेता बने उद्धव संभालेंगे महाराष्ट्र की बागडोर


मुंबई। शिवसेना के संस्थापक एवं अपने पिता बाला साहेब ठाकरे से राजनीति का ककहरा सीखने वाले उद्धव ठाकरे अब शिवसेना-राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी-कांग्रेस गठबंधन की अगली सरकार का नेतृत्व करने जा रहे हैं। राजनीति में आने से पूर्व शिवसेना के उत्तराधिकारी के रूप में शायद ही कोई उद्धव ठाकरे को जनता था। यह एक महत्वपूर्ण तथ्य है कि ठाकरे ने कभी भी सक्रिय राजनीति में अपना ध्यान नहीं लगाया। वह स्वयं को वन्यजीव फोटोग्राफी में ही व्यस्त रखते थे। 


वह एक प्रसिद्ध फोटोग्राफर हैं और वार्षिक प्रदर्शनियों में उनकी तस्वीरों को काफी महत्व दिया जाता रहा है। वन्य जीवों के बेहतरीन चित्रों को देखकर उनकी प्रतिभा का अंदाजा लगाया जा सकता है। ठाकरे ने उस समय अप्रत्याशित रूप से सुर्खियां प्राप्त की जब उन्हें शिवसेना का अगला प्रमुख बनाये जाने की  घोषणा की गयी थी। उन्होंने जब 2002 के बीएमसी चुनाव में पार्टी की जीत के साथ शिवसेना को एक प्रमुख स्थान दिलाने में महत्वपूर्ण भूमिका अदा की तब उनके पिता ने उन पर पार्टी में एक जिम्मेदार भूमिका निभाने के लिए जोर डाला। 


Popular posts
जानकीपुरम तृतीय वार्ड (नया वार्ड): जो संघर्ष अपने जीवन के लिए किया है वही वार्ड के विकास के लिए करूंगा- गया प्रसाद रावत
Image
जानकीपुरम तृतीय (नया वार्ड) : सादगी, संघर्ष व जनसेवा की मिसाल हैं प्रतिभा रावत
Image
महानगर वार्ड: क्षेत्र में भेदभाव और विकास की अनदेखी लाई है ऊषा चौधरी को मैदान में !
Image
खरगापुर सरसवां : (नया वार्ड) निस्वार्थ भाव से जनता की सेवा विरासत में मिली है अजय कुमार यादव को
Image
जानकीपुरम तृतीय वार्ड (नया वार्ड): अगर भाग्य ने साथ दिया तो बीडीसी रहने का अनुभव काम आएगा प्रमोद कुमार रावत को
Image