न्याय आज भी एक बड़े तबके की पहुंच से दूर है : राम नाथ कोविंद


नई दिल्ली। राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद ने हर किसी के लिए न्याय को सुलभ बनाने की वकालत करते हुए मंगलवार को कहा कि अब भी समाज का एक बड़ा तबका है जिसकी पहुंच से न्याय दूर है। कोविंद ने संविधान की 70वीं वर्षगांठ पर उच्चतम न्यायालय के नये प्रशासनिक भवन परिसर स्थित सभागार में आयोजित कार्यक्रम में कहा कि उच्चतम न्यायालय ने न्याय की पहुंच आम लोगों तक सुलभ बनाने के लिए कई प्रयास किये हैं, लेकिन समाज के एक बड़े तबके की पहुंच आज भी न्याय तक नहीं है।


राष्ट्रपति ने सभी के लिए न्याय को सुलभ बनाने की वकालत करते हुए कहा कि न्याय पाने में आने वाली लागत काफी अधिक होती है, और ऐसी स्थिति में न्याय सुलभ बनाने के लिए मुफ्त विधिक सेवा उपलब्ध कराने का प्रावधान कारगर उपाय है। राष्ट्रपति ने संविधान को भारत का 'धर्मग्रंथ' करार देते हुए कहा कि इसकी व्याख्या बहुत ही संवेदनशीलता एवं निपुणता से की जानी चाहिए। उच्चतम न्यायालय को संविधान का अंतिम व्याख्याकर्ता करार देते हुए राष्ट्रपति ने कहा कि इस मामले में न्यायपालिका की भूमिका अभिभावक की है। इन सत्तर वर्षों में न्यायपालिका ने अपनी जिम्मेदारी बखूबी निभायी है।


Popular posts
जानकीपुरम तृतीय वार्ड (नया वार्ड): जो संघर्ष अपने जीवन के लिए किया है वही वार्ड के विकास के लिए करूंगा- गया प्रसाद रावत
Image
जानकीपुरम तृतीय (नया वार्ड) : सादगी, संघर्ष व जनसेवा की मिसाल हैं प्रतिभा रावत
Image
महानगर वार्ड: क्षेत्र में भेदभाव और विकास की अनदेखी लाई है ऊषा चौधरी को मैदान में !
Image
खरगापुर सरसवां : (नया वार्ड) निस्वार्थ भाव से जनता की सेवा विरासत में मिली है अजय कुमार यादव को
Image
जानकीपुरम तृतीय वार्ड (नया वार्ड): अगर भाग्य ने साथ दिया तो बीडीसी रहने का अनुभव काम आएगा प्रमोद कुमार रावत को
Image