महाठग पकड़ में आया , लाखों लोगों को लगाई 13 हजार करोड़ की चपत

बसपा ने भाटी को लोकसभा का प्रत्याशी बनाया था। लेकिन ठगी उजागर होने के बाद उसका टिकट रद्द कर सतबीर नागर को अपना उम्मीदवार घोषित कर दिया था। सबसे पहले भाटी पर जयपुर के एक शख्स ने धोखाधड़ी और जलसाजी के आरोप लगा कर उसके खिलाफ पुलिस में शिकायत दर्ज करवाई।


नई दिल्ली। 23 शहरों में जालसाजी का जाल और लाखों लोगों के साथ बाइक टैक्सी चलाने के नाम पर 13 हजार करोड़ से ज्यादा की ठगी करने वाले फरेबी गर्वित इनोवेटिव प्रमोटर्स लिमिटेड (बाइक बोट) कंपनी के मालिक संजय भाटी ने आखिरकार डिस्ट्रिक्ट कोर्ट में सरेंडर कर दिया। जिसके बाद कोर्ट ने संजय भाटी को 14 दिन की न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया। संजय भाटी और उनके साथियों पर उत्तर प्रदेश कोतवाली में धोखाधड़ी के 33 मुकदमे हैं। पुलिस ने इससे पहले कंपनी के निदेशक विजय पाल कसाना को गिरफ्तार किया था।


लोगों की नजरों में एक नेता के रुप में पहचान बनाने वाले संजय भाटी का नाम पुलिस की फाइलों में आरोपी के तौर पर दर्ज है। उस पर आरोप है कि उसने ठगी का जाल बिछाकर करोड़ों रुपए डकार लिए। ठगी का शिकार हुए लोगों ने जब अपने खून-पसीने की कमाई मांगी तो उसने राजनीति को अपनी ढाल बनाते हुए कई महीनों से कानून की आंखों में धूल झोंकता रहा। गौरतलब है कि संजय भाटी बहुजन समाज पार्टी का नेता बताया जाता है।

बसपा ने भाटी को लोकसभा का प्रत्याशी बनाया था। लेकिन ठगी उजागर होने के बाद उसका टिकट रद्द कर सतबीर नागर को अपना उम्मीदवार घोषित कर दिया था। सबसे पहले भाटी पर जयपुर के एक शख्स ने धोखाधड़ी और जलसाजी के आरोप लगा कर उसके खिलाफ पुलिस में शिकायत दर्ज करवाई। सुनील कुमार मीणा का आरोप था कि शुरू में तो उन्हें स्किम के तहत प्रॉफिट की रकम मिलती रही। लेकिन जब उसे रकम मिलना बंद हो गयी और उसने जब कंपनियों के अधिकारियों से संपर्क करने की कोशिश की तब उसे पता चला की वो ठगा जा चुका है। बाद में कई सारे लोगों ने भाटी की कंपनी के खिलाफ केस दर्ज कराया औऱ अबतक 33 मुकदमें दर्ज किए गए हैं। 

 


फर्जीवाड़े का फॉर्मूला


  • बाइक बोट यानी मोटरसाइकिल टैक्सी सर्विस

  • लोगों को भारी मुनाफे के सपने दिखाकर इन्वेस्टमेंट प्लान समझाया था। 

  • बाइक बोट स्कीम के तहत एक बाइक की कीमत रखी गयी थी 62100 रुपए।

  • लोगों को एक महीने की कमाई बताई गयी 9765 रुपए।

  • इस हिसाब से साल भर की कमाई बताई गयी 117180 रुपए।

  • लोगों को एक साल में 55080 के प्रॉफिट का लालच दिया गया।




Popular posts
जानकीपुरम तृतीय वार्ड (नया वार्ड): जो संघर्ष अपने जीवन के लिए किया है वही वार्ड के विकास के लिए करूंगा- गया प्रसाद रावत
Image
खरगापुर सरसवां : (नया वार्ड) निस्वार्थ भाव से जनता की सेवा विरासत में मिली है अजय कुमार यादव को
Image
खरगापुर सरसवां : जैसे मलेशेमऊ का विकास किया वैसे ही पूरे वार्ड का विकास करूंगा - मो० फारूख प्रधान
Image
जानकीपुरम तृतीय (नया वार्ड) : सादगी, संघर्ष व जनसेवा की मिसाल हैं प्रतिभा रावत
Image
खरगापुर सरसवां - मौका मिला तो प्रदेश में केले की सफल खेती की तरह ही वार्ड को सफल बनाऊंगा - राजकेशर सिंह
Image