इम्यूनिटी बढ़ाने के साथ ही मसालों के होते हैं ढेर सारे स्वास्थ्य लाभ

खांसी होने पर बचपन से आपको भी हल्दी दूध पीने की सलाह दी जाती होगी, क्योंकि यह बेहतरीन एंटीबायोटिक है। हल्दी दूध इम्यूनिटी बढ़ाने में बहुत फायदेमंद है। इसके अलावा हल्दी के और भी कई फायदे है। छोटी इलायची बड़े काम की चीज़ है। यह कई बीमारियों से लड़ने में मदद करती है।





मसाले सदियों से भारतीय खानपान का हिस्सा है। मसालों का इस्तेमाल स्वाद और खुशबू बढाने के लिए किया जाता है, लेकिन क्या आप जानते हैं कि भारतीय मसाले सेहत की दृष्टि से भी बहुत लाभदायक है। हाल ही में आयुष मंत्रालय ने भी वायरस के खिलाफ अपनी इम्यूनिटी मज़बूत करने के लिए बाकी हिदायतों के साथ ही मसालों को भी खाने में शामिल करने की बात कही। तो चलिए आपको बताते हैं मसालों के कुछ हेल्थ बेनिफिट्स के बारे में।

 

इलायची

किसी भी व्यंजन की खूशबू बढ़ाने वाली छोटी इलायची बड़े काम की चीज़ है। यह कई बीमारियों से लड़ने में मदद करती है। 

- इलायची के पाउडर का सेवन करने से पाचन तंत्र ठीक रहता है। साथ ही भूख न लगने की समस्या भी इससे दूर होती है।

- ब्लड प्रेशर के मरीजों के लिए भी इलायची फायदेमंद होती है, यह ब्लड प्रेशर को कम करने में मदद करती है।

- इलायची खाने से फेफड़ों में ब्लड सर्कुलेशन अच्छी तरह  होता है। अस्थमा पेशेंट के लिए इलायची बहुत लाभदायक है।

 


हल्दी

खांसी होने पर बचपन से आपको भी हल्दी दूध पीने की सलाह दी जाती होगी, क्योंकि यह बेहतरीन एंटीबायोटिक है। हल्दी दूध इम्यूनिटी बढ़ाने में बहुत फायदेमंद है। इसके अलावा हल्दी के और भी कई फायदे हैः

- चोट वाली जगह पर हल्दी लगाने और हल्दी के सेवन से चोट जल्दी ठीक हो जाती है।

- हल्दी में मौजूद कुरकुमिन नामक एंटीऑक्सीडेंट एंटी एजिंग का काम करता है।

- यदि आपका कोलेस्ट्रॉल लेवल बढ़ा हुआ है, तो हल्दी का सेवन लाभदायक होगा।

- शरीर में मौजूद किसी भी तरह के सूजन को कम करने में हल्दी फायदेमंद है।

- हल्दी वजन कम करने के काम आता है। इसलिए खाने में हल्दी का इस्तेमाल ज़रूर करें।

 

जीरा

जीरे में मैग्नीशियम और आयरन की भरपूर मात्रा होती है। इसे खाने से ब्लड प्रेशर कंट्रोल में रहता है।

- इम्यूनिटी बढ़ाने में जीरा भी बहुत फायदेमंद होता है, इसलिए जीरे का सेवन अवश्य करें।

- सांस की बीमारी वालों के लिए और वजन कम करने की कोशिश करने वालों के लिए भी जीरा बहुत लाभदायक होता है।

- जीरे के सेवन से एनीमिया दूर होता है और पाचन तंत्र ठीक रहता है। साथ ही इससे हड्डियां भी स्वस्थ रहती हैं।

 


धनिया

भारतीय खाने में धनिया पत्तियों, साबूत धनिया और धनिया पाउडर का इस्तेमाल खाने का ज़ायका बढ़ाने के लिए होता है।

- धनिया पाउडर के सेवन से बैक्टीरिया लड़ने में मदद मिलती है। बैक्टीरिया के कारण फूड पॉइज़निंग होती है।

- इसके सेवन से दस्त, गैस, पेट दर्द और अपच की समस्या से निजात मिल सकती है।

- ब्लड शुगर लेवल और हार्मोंस का बैलेंस बनाए रखने में भी मदद मिलती।

- धनिया खाने से पेट ठंडा रहता है और पेट में मौजूद कीड़े और बैक्टीरिया मर जाते हैं।

 

कालीमिर्च

अक्सर सर्दी-खांसी होने पर जो काढ़ा बनाया जाता है, उसमें कालीमिर्च अवश्य डाली जाती है। क्योंकि इसकी तासीर गर्म होती है जिससे कफ व सर्दी से राहत मिलती है।

- कालीमिर्च में आयरन की मात्रा होती है, जो शरीर के लिए फायदेमंद है।

- यह ब्लड प्रेशर को कम करने में मददगार है। यह ब्लड सर्कुलेशन को ठीक रखता है और गठिया के दर्द से राहत दिलाने में भी मददगार है।

- कालीमिर्च के सेवन से गैस की समस्या भी खत्म हो जाती है।

 


लहसुन

लहसुन हमारे खाने का अनिवार्य हिस्सा है। कुछ खास लोगों को छोड़कर लगभग हर घर में लहसुन का प्रयोग होता है। लहसुन खाने से भी आपकी रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है।

- सुबह खाली पेट लहसुन खाने से हाई बीपी और डायरिया व कब्ज जैसी बीमारियों से राहत मिलती है।

- लहसुन दिल को सुरक्षित रखता है। इसके सेवन से हार्ट अटैक का खतरा कम हो जाता है।

- सर्दी-जुकाम, खांसी, अस्‍थमा, निमोनिया, ब्रोंकाइटिस आदि की मरीजों के लिए भी लहसुन का सेवन फायदेमंद होता है।

- खाली पेट लहसुन खाने से डाइजेशन ठीक रहता है और भूख न लगने की समस्या भी दूर होती है।





Popular posts