शंकराचार्य : मुसलमान हिन्दुओं का दिल जीतने के लिए मंदिर के लिए जमीन सौंप दें


मथुरा। शंकराचार्य अधोक्षजानन्द देव तीर्थ ने मंगलवार को अयोध्या विवाद में आनेवाले फैसले को देखते हुए हिन्दुओं और मुसलमानों से संयम बरतने की अपील की है। उन्होंने मुस्लिम पर्सनल ला बोर्ड के उपाध्यक्ष कल्बे सादिक के उस बयान का स्वागत किया है जिसमें उन्होंने कहा है कि मुसलमानों को हिन्दुओं का दिल जीतने के लिए अयोध्या की विवादित जमीन मंदिर बनाने के लिए हिंदूओं को सौंप देनी चाहिए। उन्होंने आल इण्डिया माइनरटीज फोरम फार डेमोक्रैसी के अध्यक्ष अम्मार रिजवी के भी उस बयान को सराहा जिसमें उन्होंने मंदिर के लिए विवादित भूमि को हिंदूओं को देने के कल्बे सादिक के बयान का समर्थन किया है। उनका कहना था कि दोनो ही नेता पढ़े लिखे होने के कारण सौहार्द्रपूर्ण वातावरण की कीमत समझते हैं।

 

वास्तव में इस  देश के हिंदू और मुसलमान भारत माता की दो आखों की तरह हैं तथा दोनो में किसी की उपयोगिता को कम नही आंका जा सकता क्योंकि देश को आजाद कराने से लेकर आजाद देश के उत्थान एवं दूसरे देशों से हुई लड़ाई में दोनो का एक जैसा योगदान रहा है। उन्होंने उच्चतम न्यायालय द्वारा इस मुकदमे के निपटारा करने के लिए अपनाई गई प्रक्रिया की प्रशंसा करते हुए कहा कि  मध्यस्थता से विवाद सुलझाने के लिए जो रास्ता चुना गया था वह सर्वोत्तम था किंतु जब मध्यस्थता करनेवाले असफल हो गए तो पीठ को फैसला देना ही है। जो भी फैसला आना है उसमें न किसी की हार है और ना ही किसी की जीत है क्योंकि जो फैसला आना है वह तथ्यों पर आधारित है।