दिल्ली में प्रदूषण के मुद्दे को चुनावी नजरों से न देखें : गौतम गंभीर


नई दिल्ली। पूर्वी दिल्ली से भारतीय जनता पार्टी के सदस्य तथा राष्ट्रीय राजधानी में प्रदूषण को लेकर हुई एक बैठक में अनुपस्थित रहने के लिए पिछले दिनों ट्रोल हुये गौतम गंभीर ने इस मुद्दे पर आरोप-प्रत्यारोप का खेल न खेलने और इसे चुनावी नजरों से नहीं देखने की अपील की है। गंभीर ने मंगलवार को लोकसभा में ''वायु प्रदूषण एवं जलवायु परिवर्तन'' पर चर्चा में हिस्सा लेते हुये कहा कि प्रदूषण हर किसी को प्रभावित करता है। हमें इसे राजनीतिक रंग देना और एक-दूसरे पर आरोप-प्रत्यारोप का क्रम समाप्त करना होगा। उन्होंने दिल्ली सरकार द्वारा पिछले दिनों लागू किये गये ऑड-ईवेन को निशाने पर लेते हुये कहा कि ऑड-ईवेन लागू करने या निर्माण गतिविधियों पर रोक लगाने की बजाय दीर्घकालीन समाधान ढूँढ़े जाने चाहिये।

 

भाजपा सदस्य ने कहा, ''एक-दूसरे पर आरोप मढ़ने या इस मुद्दे को चुनावी नजरों से देखने का अंजाम बुरा होगा। देश में हर मिनट में एक बच्चे की मौत वायु प्रदूषण के कारण हो रही है। शॉटकट ढूँढ़ने की बजाय दीर्घावधि समाधान के बारे में सोचना चाहिये। '' उन्होंने कहा कि उनके संसदीय क्षेत्र में प्रदूषण का सबसे बड़ा स्रोत गाजीपुर का कूड़े का ढेर है। उसे साफ करने के लिए मशीनें खरीदी जा रही हैं। उन्होंने इलाके में 30 फुट के एयर प्यूरीफायर लगाने की योजना बनायी है। पानी का नियमित छिड़काव किया जा रहा है। गंभीर चर्चा में अपना नाम पुकारे जाने से कुछ मिनट पहले सदन में आये थे और बोलने के कुछ ही देर बाद सदन से चले गये।