50 साल की होने पर सबरीमाला आऊंगी, 9 साल की बच्ची ने तख्ती पर लिखा संदेश

केरल के सबरीमाला मंदिर जाने के दौरान 9 साल की एक बच्ची के गले में लटकी तख्ती ने सबका ध्यान अपनी ओर खींच लिया. तख्ती पर लिखा था कि भगवान अयप्पा, मैं अभी 9 साल की हूं. अब अगली बार 50 साल की होने के बाद इस मंदिर में आऊंगी.



 



  • सबरीमाला मंदिर में पहुंची बच्ची ने दिया संदेश

  • सबरीमाला मंदिर दो महीने के लिए खोला गया


केरल के सबरीमला मंदिर जाने के दौरान 9 साल की एक बच्ची के गले में लटकी तख्ती ने सबका ध्यान अपनी ओर खींच लिया. तख्ती पर लिखा था, 'भगवान अयप्पा, मैं अभी 9 साल की हूं, अब अगली बार 50 साल की होने के बाद इस मंदिर में आऊंगी.' ये लाइनें मलयालम भाषा में लिखी थी और इसके नीचे अंग्रेजी में लिखा था- 'रेडी टू वेट'


अपने पिता हरिकृष्णा के साथ सबरीमला आई 9 साल की बच्ची हृदय कृष्णा ने मीडिया को बताया, 'यह तीसरी बार है, जब मैं सबरीमला आई हूं और मंदिर की परंपरा के अनुसार, अब मैं तभी आ सकती हूं, जब मैं 50 साल की हो जाऊंगी, इसलिए मैंने तख्ती पहनने का फैसला किया.'


10 से 50 साल की महिलाओं की एंट्री बैन


केरल के पथानामथिट्टा जिले की पहाड़ी पर स्थित इस मंदिर में 10 से 50 साल की महिलाओं के प्रवेश की इजाजत नहीं है, हालांकि सुप्रीम कोर्ट द्वारा इन पाबंदियों को हटान के बाद भी इन उम्र की महिलाओं का यहां आने को लेकर विरोध जारी है.


बेंगलुरू में रहने वाले केरल के निवासी हरिकृष्णा ने बाद में मीडिया को बताया कि वे सबरीमला मंदिर की परंपरा और संस्कृति को लेकर केवल एक संदेश देना चाहते थे, इसलिए उनकी छोटी बेटी ने अपने गले में यह संदेश लिखी हुई तख्ती पहनी थी.


दर्शन के लिए सबरीमाला मंदिर खोला गया


बता दें कि सबरीमाला मंदिर दो माह के दर्शन के लिए शनिवार (9 नवंबर) को खोल दिया गया. पिछली बार छावनी में तब्दील रहे सबरीमाला मंदिर में इस बार शांति है. हालांकि, शनिवार को केरल पुलिस ने 10 महिलाओं को सबरीमाला मंदिर में अंदर जाने से रोक दिया.