घड़े में जिन्दा मिली बच्ची, BJP MLA पप्पू भरतौल ने अपनाया, नाम रखा सीता


'अद्भुत बच्ची है, ये दूसरी सीता है. जिस तरह राजा जनक को एक घड़े में मां सीता मिली थीं. उसी तरह हमें भी ये बच्ची एक घड़े में मिली है. मैं इस बच्ची का पालन-पोषण करूंगा, उसे खूब पढ़ाऊंगा'


बरेली : उत्तर प्रदेश में बरेली की बिथरी चैनपुर सीट से बीजेपी विधायक राजेश मिश्रा उर्फ पप्पू भरतौल एक बार फिर सुर्खियों में है. बरेली शहर में दो दिन पहले श्मशान में खुदाई के दौरान मटके में एक नवजात बच्ची दबी मिली थी. इस बच्ची को इलाज के लिए जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया था. अब बीजेपी विधायक पप्पू भरतौल ने बच्ची के पालन-पोषण की जिम्मेदारी ली है. विधायक पप्पू भरतौल ने बच्ची का नाम सीता रखा है. बिथरी चैनपुर सीट से विधायक राजेश मिश्रा ने कहा, "सरकार की 'बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ' योजना के तहत हम इस बच्ची का सारा खर्चा उठाएंगे. इसकी शिक्षा और पालन-पोषण की जिम्मेदारी निभाएंगे."


गड्ढे में दबाए गए मटके में मिली बच्ची


शनिवार को कुछ लोग अपने परिवार में मृत बच्चे को दफनाने के लिए शहर के श्मशान में लेकर पहुंचे थे. ये लोग मृत बच्चे को दफनाने के लिए गड्ढा खोद रहे थे, इसी दौरान जमीन से एक मटका निकला. जब मटके को खोलकर देखा गया, तो उसमें जीवित बच्ची नजर आई. आनन-फानन में बच्ची को इलाज के लिए जिला अस्पताल ले जाया गया. हालांकि, अब तक ये पता नहीं चल पाया है कि किसने जिंदा बच्ची को मटके में रखकर जमीन में दफन कर दिया था.


विधायक राजेश मिश्रा को जैसे ही इसकी जानकारी मिली, वह तुरंत जिला अस्पताल पहुंचे. इसके बाद उन्होंने ऐलान किया कि वह इस बच्ची की परवरिश की जिम्मेदारी लेते हैं. बच्ची का नाम सीता रखा मीडिया से बात करते हुए विधायक ने बच्ची का नाम सीता रखने की वजह भी बताई. उन्होंने कहा- ये अद्भुत बच्ची है, ये दूसरी सीता है. जिस तरह राजा जनक को एक घड़े में मां सीता मिली थीं. उसी तरह हमें भी ये बच्ची एक घड़े में मिली है. मैं इस बच्ची का पालन-पोषण करूंगा, उसे खूब पढ़ाऊंगा. राजेश मिश्रा ने बच्ची को बेसहारा छोड़कर चले जाने वालों को भी नसीहत दी है. उन्होंने कहा, किसी भी बच्चे को इस तरह छोड़कर नहीं जाना चाहिए. अगर वह नहीं पाल सकते, तो किसी दूसरे व्यक्ति को देना चाहिए. इस देश में बच्चों को पालने वाले लोगों की कमी नहीं है. बता दें, इससे पहले विधायक राजेश मिश्रा उस वक्त सुर्खियों में आए थे, जब उनकी बेटी साक्षी मिश्रा ने दूसरे समुदाय के लड़के के साथ शादी कर ली थी. साक्षी ने शादी करने के बाद एक वीडियो जारी किया था, जिसमें उन्होंने खुद को और अपने पति अजितेश को अपने पिता और बीजेपी विधायक पप्पू भरतौल से जान का खतरा बताया था. यह मामला मीडिया में खूब उछला था. इस दौरान बीजेपी विधायक ने मीडिया के सामने आकर सफाई दी थी कि उनकी बेटी साक्षी मिश्रा को उनसे कोई खतरा नहीं है और वह अपने फैसले खुद लेने के लिए स्वतंत्र है.


Popular posts
जानकीपुरम तृतीय वार्ड (नया वार्ड): जो संघर्ष अपने जीवन के लिए किया है वही वार्ड के विकास के लिए करूंगा- गया प्रसाद रावत
Image
खरगापुर सरसवां : (नया वार्ड) निस्वार्थ भाव से जनता की सेवा विरासत में मिली है अजय कुमार यादव को
Image
खरगापुर सरसवां : जैसे मलेशेमऊ का विकास किया वैसे ही पूरे वार्ड का विकास करूंगा - मो० फारूख प्रधान
Image
जानकीपुरम तृतीय (नया वार्ड) : सादगी, संघर्ष व जनसेवा की मिसाल हैं प्रतिभा रावत
Image
खरगापुर सरसवां - मौका मिला तो प्रदेश में केले की सफल खेती की तरह ही वार्ड को सफल बनाऊंगा - राजकेशर सिंह
Image